कलेक्टर ने जलाशयों में जलभराव, दलहन तिलहन फसलों के बीज की मांग पर हुई विस्तृत चर्चा

कलेक्टर श्री कुन्दन कुमार के निर्देशन में जिले में वर्षा की स्थिति के मद्देनजर कृषि एवं फसल लेने की तैयारी के संबंध में हुई बैठक

राजस्व एवं कृषि अधिकारियों को तत्काल फील्ड निरीक्षण के निर्देश, वर्षा की स्थिति

अम्बिकापुर,ब्यूरो

आशिक  खान 

 

/ कलेक्टर श्री कुन्दन कुमार के निर्देशन में बुधवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिले में वर्षा की स्थिति के दृष्टिगत कृषि एवं फसल लेने की तैयारी के संबंध में आवश्यक बैठक आयोजित की गई। जिले में अब तक हुई वर्षा की स्थिति पर कलेक्टर ने कृषि की कार्ययोजना तैयार करने संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देशित किया है। कलेक्टर के मार्गदर्शन में सीईओ जिला पंचायत श्री नूतन कुमार कंवर और अपर कलेक्टर श्री एएल ध्रुव ने विभागों से जानकारी ली। बैठक में समस्त राजस्व अधिकारियों और कृषि विभाग के अधिकारियों को गांव गांव जाकर फील्ड निरीक्षण करने के निर्देश दिए गए। वर्षा की स्थिति के मद्देनजर किसानों और स्थानीय जनप्रतिनिधियों से चर्चा कर दलहन तिलहन की फसल लेने और बीज की आवश्यकता पर चर्चा किए जाने भी निर्देशित किया गया है। अम्बिकापुर, दरिमा और लुण्ड्रा में बीते वर्ष की तुलना में कम वर्षा की स्थिति पाई गई है जिसके संबंध में बैठक में तुलनात्मक निरीक्षण करते हुए धान का रकबा, बोनी और रोपाई की रिपोर्ट प्रस्तुत करने अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। जिसके आधार में अगली कार्ययोजना तैयार की जा सके। बैठक में कृषि एवं बीज निगम के अधिकारियों को दलहन तिलहन की फसलों हेतु किसानों की मांग के आधार पर बीज की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए। बैठक में विभागों द्वारा बताया गया कि किसानों द्वारा रागी, कोदो, उड़द, अरहर सहित रामतिल और कुलथी की मांग की जा रही है। इसके साथ ही मनरेगा के तहत कार्यों के प्रस्ताव भेजने समस्त सीईओ जनपद पंचायत को कहा गया है।

मौसमी बीमारियों के मद्देनजर जीवन रक्षक दवाइयां और पहुंचविहीन क्षेत्रों में खाद्यान्न भंडारण सुनिश्चित करने के निर्देश- बैठक में स्वास्थ्य विभाग को मौसमी बीमारियों के मद्देनजर जीवन रक्षक दवाइयों की उपलब्धता मितानिनों एवं सभी स्वास्थ्य केंद्रों में सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही अधिक वर्षा की स्थिति में पंचायत मुख्यालय से कट कर पहुंचविहीन होने वाले क्षेत्रों में खाद्यान्न भंडारण सुनिश्चित कर लिए जाने निर्देशित किया गया।

जिले में अब तक 137.0 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज- भू-अभिलेख शाखा के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि जिले के सभी तहसीलों में 24 घण्टे के दौरान 1.1 मि. मी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। इस दौरान सर्वाधिक 4.1 मि.मी. औसत वर्षा अम्बिकापुर तहसील में दर्ज की गई है। इसे मिलाकर पूरे जिले में जून से अब तक 137.0 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज़ की गई है।

उन्होंने बताया कि 1 जून से 18 जुलाई 2023 तक तहसील अम्बिकापुर में 106.6 मिमी, तहसील दरिमा में 90.4 मिमी, तहसील लुण्ड्रा में 96.0 मिमी, तहसील सीतापुर में 255.9 मिमी, तहसील लखनपुर में 123.9 मिमी,तहसील उदयपुर में 118.5 मिमी, तहसील बतौली में 117.6 मिमी एवं तहसील मैनपाट में 187.6 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज गई है।

विभाग द्वारा जलाशयों में जलभराव, परियोजनाओं और सिंचाई की दी गई जानकारी- कार्यपालन अभियंता जलसंसाधन संभाग द्वारा प्राप्त जानकारी अनुसार जिले में 02 मध्यम एवं 160 लघु परियोजनाएं हैं। जिसकी सिंचाई क्षमता 63632 हेक्टेयर है। वर्ष 2022 में जलभराव का प्रतिशत 20 प्रतिशत दर्ज किया गया है, वहीं वर्ष 2023 में जलभराव का प्रतिशत 27 प्रतिशत दर्ज किया गया है। वर्ष 2023 में खरीफ सिंचाई का लक्ष्य 22713 हेक्टेयर है। कृषकों को जल प्रदाय शुरू कर दिया गया है। बैठक में संबंधित विभागों के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।,

Aashiq khan
Author: Aashiq khan

क्या गुजरात में आप की मौजूदगी से भाजपा को फायदा मिला?
  • Add your answer